| GNOU Solved Assignment | DECE Jan & July 2022 |

| GNOU Solved Assignment | DECE Jan & July 2022 |100% free Pdf Download |

| IGNOU Solved Assignment |
| DECE Jan & July 2022 |

Welcome To
Odisha Regional Study Point

We Allow the best exam preparation for SSC, RAILWAY ,BANKING, OSSC COMBINED EXAM ,CT,BED,OTET, OSSTET,ASO,RI,AMIN, DECE(IGNOU)   In ଓଡ଼ିଆ Language…

| IGNOU Solved Assignment |
| DECE Jan & July 2022 |

Assignment Front Page Solution 2022

ASSIGNMENT – 1

SECTION – A

Que – 1

Que. 1 Write about each of the following in about 200 words each .

(A) Critical Periods in Development .

Ans 

  • There are some periods in the life of a child that are crucial for development and learning. During these periods if the child has favourable experiences, her development will be fostered. If in these periods experiences are unfavourable, development suffers.
  • At times, the damage done because of unfavourable experiences may be irreversible.
  • These periods when a child is particularly sensitive to the conditions in her environment are referred to as critical periods or sensitive periods.
  • A critical or sensitive period is that time period in life when an environmental influence has its greatest impact on the development of the Child.
  • During this period, specific experiences affect the development of the child more than they do at other times.

Critical periods in.prenata1 development

  • There are critical periods in prenatall development as well. It has been observed that the first three months of pregnancy are by and large critical for most body systems and exposure to harmful environmental factors during these months can cause major developmental deffects.

Critical periods are observed in social and emotional Development

  • Critical periods are observed in social and emotional development also.
  • The infant forms the first relationship with the caregiver, who is usually the mother, during the first six months of life.
  • Research shows that the child can form this relationship only if the caregiver is loving and nurturant.

(B) Sensory Capability of a Newborn .

The senses of a newborn

Babies are born with all 5 senses—sight, hearing, smell, taste, and touch. Some of the senses are not fully developed. The newborn’s senses are as described below.

Sight

Over the first few months, babies may have uncoordinated eye movements. They may even seem cross-eyed. Babies are born with the ability to focus only at close range. This is about 8 to 10 inches, or the distance between a mother’s face to the baby in her arms. Babies are able to follow or track an object in the first few weeks of life. Focus improves over the first 2 to 3 years of life to a normal 20/20 vision. Newborns can detect light and dark but can’t see all colors. This is why many baby books and infant toys have distinct black and white patterns.

Hearing

During pregnancy, many mothers find that the baby may kick or jump in response to loud noises and may quiet with soft, soothing music. Hearing is fully developed in newborns. Babies with normal hearing should startle in response to loud sounds. These babies will also pay quiet attention to the mother’s or father’s voice. And they will briefly stop moving when sound at a conversational level is begun. Newborns seem to prefer a higher-pitched voice (the mother’s) to a low-sounding voice (males). They can also tune out loud noises after hearing them several times.

Newborns will have their hearing screened while still in the hospital.

Smell

Studies have found that newborns have a strong sense of smell. Newborns prefer the smell of their own mother, especially her breastmilk.

Taste

Babies prefer sweet tastes over sour or bitter tastes. Babies also show a strong preference for human milk and breastfeeding. This is especially true if they are breastfed first and then offered formula or a bottle.

Touch

Babies are comforted by touch. Placing a hand on your baby’s belly or cuddling close can help them feel more secure. Wrapping your baby snugly in a blanket (swaddling) is another method used to help newborn babies feel secure. You can buy a special swaddling blanket designed to make swaddling easier.

(C) Growth Monitoring . 

Growth denotes increase in physical size of the body and development denotes improvement in skills and function of an individual. Together they denote physical, intellectual, emotional and social well being of a person.

Normal growth and development is observed only if there is proper nutrition, without any recurrent episodes of infections and if there is freedom from adverse and environmental influences.

Determinants of growth and development

  • Genetic inheritance – especially height, weight, mental, social development and personality.
  • Nutrition before and after birth – Retardation in an infant indicates malnutrition.
  • Age – Growth rate is maximum during fetal life, first two years of life and during puberty.
  • Sex – Men usually are larger in size than women. During puberty girls grow fast and earlier than boys, but boys grow more.
  • Infections and infestations – Infection with TORCH during intrauterine life retards growth of fetus. Recurrent infections like diarrhea and measles especially in a malnourished child will adversely affect the growth.
  • Physical surroundings – Sun shine, good housing, lighting ventilation have their effect on growth and development.
  • Psychological factors – Love, tender care and proper child parent relationship are all found to influence growth in a child.
  • Economic factors – Higher the family income better is the nutritional status of an infant.
  • Other factors – Birth order, Birth spacing, Education of parents (higher the educational level better the growth).

(D) Animism

This is the belief that inanimate objects (such as toys and teddy bears) have human feelings and intentions. By animism Piaget (1929) meant that for the pre-operational child the world of nature is alive, conscious and has a purpose.

Piaget has identified four stages of animism:

  1. Up to the ages 4 or 5 years, the child believes that almost everything is alive and has a purpose.
  2. During the second stage (5-7 years) only objects that move have a purpose.
  3. In the next stage (7-9 years), only objects that move spontaneously are thought to be alive.
  4. In the last stage (9-12 years), the child understands that only plants and animals are alive.                                                                                                                  

(E)  Significance of Rhythm , Music and  Movement                             

    Rhythm , music and movement plays an important role in the development of newborn and  small children.  The newborn relaxes when cajol through soft sounds loving tones and lullabies  . To comfort a crying infant, we usually rock her, clap our hand , click our finger or make repetitive sound like  ” kaka kaka”                  These rhythmic sound and movements are soothing, comforting and peaceful to the baby.                                                                                                                                  

  EXAMPLE ; A tense young toddler , alone in a room immediately  feels secure on hearing the familiar sounds of her mother’s footsteps                                                  Rocking , swaying and other rhythmic movement are built into children’s equipment such as swing , rocking  horse and wheel toys .

                                       

 Music and movement provide for self expression and self discovery. Children should be encouraged to respond to music to interpret the music in their own way and to make up new words, new tunes and new movements.                                   Music and dance enable  expression of feelings and moods. They allow the child to give vent to her pent up feelings and emotions in a socially approved manner.     

EXAMPLE  Beating of drum ,flying arms or other dance movement can help child express his/her emotions .                                                                                                 

 Sense of movement ,familiariezes young children with their ability to act upon the environment .Through movement the child experiences the vastness of space and understands , that she can use her body to explore her surroundings . hence , rhythmic movement provides the opportunity for the child to learn about the environment .

Que . 2  You are running a summer camp and have a group of ten preschoolers who are between 4 to 4.5 years of age . Describe one activity each that you will plan to faciliate.

  • Cognitive development
  • physical motor development
  • socio-emotional development
  • facilitate language development

For each activity , mention the material required if any and procedure to  carry out the activity for  each development domain state the specific aspect of that domain that will be posted through the activity .

(A) Congitive  development

Congitive means how children think ,explore and figure things out . it is the development of knowledge,skill,problem solving which  help children to think about and understand world around them .

  • Activity name : put in basket
  • Goal of the activity :  to Foster cognitive development of children of age 4 to 4.5 years
  • Content of the activity : for this activity I will put four different colours ball ( red Yellow Blue Green)  in one basket .

Along with Big basket , I will keep for empty basket.  children are supposed to put the same colour ball in each basket which means one basket will have Blue Ball and other basket will have red balls and so on.

firstly I will show them that how they have to perform this activity and then I will let  themselves to do one by one . I will keep on motivating them to boost their confidence .

material required : one big basket , 4 small basket ,  coloured balls

classification skill will be developed by performing put in basket activity

in cognitive development classification skill will develop in following way

  • children will understand that red blue green yellow are different colours.
  • children will put one balls in one basket does they will we do classified balls on the basis of colour
  • this activity  will foster  their cognitive development by making them understand the concept of colour and they will now classify balls,pens, boxes and any object on the basis of colour.

      Physical motor development :

      Motor development means physical growth and standing of child bone muscles or ability to move and touch his horse surrounding.

Activity name : kick the ball

Goal of the activityTo faster physical motor development of children of age 4 to 4.5 years.

Content of activity for this activity I will take one big size ball and so the children how to kick the ball with the full strength firstly I will show them and then I will ask them to play with ball according to their wish by kicking the ball in any direction. One by one all children will keep the ball . After sometime I will make children stand in different corner and them ask them ask to kick the ball by Passing it to each other .In this way they can play with ball.

Materials required : Big size ball
Gross motor skill will be developed by performing kick the ball activity :

 >>In physical motor development gross motor scale will develop in following ways

>>Children will kick the ball which will involve their leg muscles and upper body coordination

>>Children will balance their body and put strength on the legs to kick the ball >>kicking ball and roaming here and there running after the ball will develop their large muscles and improve their strength. Thus gross motor skill will be fastered

C. Socio emotional development

Socio emotional development is a gradual integritve process through which children acquire the capacity to understand experience and manage emotions and developed to meaningful relationship with others.

Activity name : Talk to puppets
Goal of the activity: To faster so so emotional development of children’s of Age 4 to 4.5 years
Content of the activity: For this activity i will made two poppets( Happy and sad )

And ask the children to talk to those Puppets also I will ask them what make you happy what make you sad what to do when you are happy what to you do when you are sad ?to make aware about their emotions. I will teach them to stay happy always and tell them to talk to others when they are sad. In this way we can enhance their socio emotional development

Materials required :stick Puppets of happy face stick for pets of sad face

Understanding and expressing emotions will develop through talk to Puppets activity.
Understanding emotions expressing emotions are part of socio emotional development.
>>> children will talk to happy face Puppets and will tell others what makes them happy . This will make this aware about their source of happiness
>>> children will talk to sad Puppets and realise what makes them sad and they should avoid those things which make them feel bad and set in this activity old manly for cause on bringing happiness and laughter in this lives

  C .Facilitate language development

Language development starts with sound and gesture then word and sentence. Language development is the process through which we communicate our idea and understand others thought and ideas.

Activity name-poem recitation on my garden
Goal of the activity– to facilated language development of children of age 4 to 4.5 years

Content of the activity . For this activity I will prepare a beautiful chart with picture and poem written on it I will recite the poem on My Garden with all gestures expression and within quarter of the maximum and attention of the children. After that I will tell to later to repeat after me. Also I will use flashcards option plant seeds to make aware of their name and use it in their daily life I will decide poem many time with children so that children can enjoy and understand the meaning of words.

Material required: chart on poem my garden flashcards

This is my garden

I will plant it with care here

are the seeds

I will plant in these

the sun will sine the rain will fall

the seeds to will sprout and grow up tall

Vocabulary and communication skill will develop through poem recitation activity
>> Children will be able to learn new words
>>Children will be able to speak sentence
>>Children will enjoy with poem
>> Children can use this word in their daily life
      In this way poem recitation on on My Garden will help in facilitating the language development
 
 

असाइनमेंट 1

खंड (क )

प्रश्न – 1

प्रश्न. 1 निम्नलिखित में से प्रत्येक के बारे में लगभग 200 शब्दों में लिखिए।

(ए) विकास में निर्नायकअवधि।

उत्तर:

  • बच्चे के जीवन में कुछ समय ऐसे होते हैं जो विकास और सीखने के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। इन अवधियों के दौरान यदि बच्चे के अनुकूल अनुभव हैं, तो उसके विकास को बढ़ावा मिलेगा। यदि इन अवधियों में अनुभव प्रतिकूल होते हैं, तो विकास प्रभावित होता है।
  • कभी-कभी, प्रतिकूल अनुभवों के कारण हुई क्षति अपरिवर्तनीय हो सकती है।
  • इन अवधियों को जब कोई बच्चा अपने वातावरण की स्थितियों के प्रति विशेष रूप से संवेदनशील होता है, तो उसे महत्वपूर्ण अवधियों या संवेदनशील अवधियों के रूप में जाना जाता है।
  • एक महत्वपूर्ण या संवेदनशील अवधि जीवन में वह समय अवधि होती है जब बच्चे के विकास पर पर्यावरणीय प्रभाव का सबसे बड़ा प्रभाव पड़ता है।
  • इस अवधि के दौरान, विशिष्ट अनुभव बच्चे के विकास को अन्य समय की तुलना में अधिक प्रभावित करते हैं।

प्रसबपुरब विकास में निर्नायक अभिधीय

  • प्रसवपूर्व विकास में भी महत्वपूर्ण अवधियाँ होती हैं। यह देखा गया है कि गर्भावस्था के पहले तीन महीने ज्यादातर शरीर प्रणालियों के लिए महत्वपूर्ण होते हैं और इन महीनों के दौरान हानिकारक पर्यावरणीय कारकों के संपर्क में आने से विकास संबंधी बड़े प्रभाव हो सकते हैं।

सामाजिक और भावनात्मक विकास में निर्नायक अभिधीय

  • सामाजिक और भावनात्मक विकास में महत्वपूर्ण अवधि देखी जाती है सामाजिक और भावनात्मक विकास में भी महत्वपूर्ण अवधि देखी जाती है।
  • जीवन के पहले छह महीनों के दौरान शिशु देखभाल करने वाले के साथ पहला रिश्ता बनाता है, जो आमतौर पर मां होती है।
  • शोध से पता चलता है कि बच्चा यह रिश्ता तभी बना सकता है जब देखभाल करने वाला प्यार करने वाला और पोषण करने वाला हो।

(बी) एक नवजात शिशु की संवेदी क्षमता।

नवजात शिशु के होश

बच्चे सभी 5 इंद्रियों के साथ पैदा होते हैं- दृष्टि, श्रवण, गंध, स्वाद और स्पर्श। कुछ इंद्रियां पूरी तरह से विकसित नहीं होती हैं। नवजात शिशु की इंद्रियां नीचे वर्णित हैं।

दृश्य

पहले कुछ महीनों में, शिशुओं की आंखों की गति असंगठित हो सकती है। वे क्रॉस-आइड भी लग सकते हैं। शिशुओं का जन्म केवल निकट सीमा पर ध्यान केंद्रित करने की क्षमता के साथ होता है। यह लगभग 8 से 10 इंच या मां के चेहरे और उसकी बाहों में बच्चे के बीच की दूरी है। बच्चे जीवन के पहले कुछ हफ्तों में किसी वस्तु का अनुसरण या ट्रैक करने में सक्षम होते हैं। जीवन के पहले 2 से 3 वर्षों में फोकस सामान्य 20/20 दृष्टि में सुधार करता है। नवजात शिशु प्रकाश और अंधेरे का पता लगा सकते हैं लेकिन सभी रंग नहीं देख सकते। यही कारण है कि कई बच्चों की किताबों और शिशु खिलौनों में अलग-अलग काले और सफेद पैटर्न होते हैं।

सुनवाई

गर्भावस्था के दौरान, कई माताओं को पता चलता है कि बच्चा जोर से शोर के जवाब में लात मार सकता है या कूद सकता है और नरम, सुखदायक संगीत के साथ शांत हो सकता है। नवजात शिशुओं में सुनवाई पूरी तरह से विकसित होती है। सामान्य सुनने वाले शिशुओं को तेज आवाज के जवाब में चौंका देना चाहिए। ये बच्चे माता या पिता की आवाज पर भी चुपचाप ध्यान देंगे। और जब बातचीत के स्तर पर ध्वनि शुरू हो जाती है तो वे कुछ समय के लिए हिलना बंद कर देंगे। ऐसा लगता है कि नवजात शिशु कम आवाज वाली आवाज (पुरुषों) की तुलना में अधिक ऊंची आवाज (मां की) पसंद करते हैं। वे कई बार सुनने के बाद तेज आवाज भी निकाल सकते हैं।

अस्पताल में रहते हुए नवजात शिशुओं की सुनवाई की जांच की जाएगी।

महक

अध्ययनों से पता चला है कि नवजात शिशुओं में गंध की तीव्र भावना होती है। नवजात शिशु अपनी मां की गंध पसंद करते हैं, खासकर उसके स्तन के दूध को।

स्वाद

बच्चे खट्टे या कड़वे स्वाद की तुलना में मीठा स्वाद पसंद करते हैं। शिशु भी मानव दूध और स्तनपान के लिए एक मजबूत प्राथमिकता दिखाते हैं। यह विशेष रूप से सच है यदि उन्हें पहले स्तनपान कराया जाता है और फिर फार्मूला या बोतल की पेशकश की जाती है।

स्पर्श

स्पर्श से शिशुओं को आराम मिलता है। अपने बच्चे के पेट पर हाथ रखने या उसे करीब से गले लगाने से उसे अधिक सुरक्षित महसूस करने में मदद मिल सकती है। अपने बच्चे को कंबल (स्वैडलिंग) में आराम से लपेटना एक और तरीका है जिससे नवजात शिशुओं को सुरक्षित महसूस करने में मदद मिलती है। आप स्वैडलिंग को आसान बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया एक विशेष स्वैडलिंग कंबल खरीद सकते हैं।

(सी) विकास निगरानी।

विकास शरीर के भौतिक आकार में वृद्धि को दर्शाता है और विकास व्यक्ति के कौशल और कार्य में सुधार को दर्शाता है। साथ में वे किसी व्यक्ति के शारीरिक, बौद्धिक, भावनात्मक और सामाजिक कल्याण को दर्शाते हैं।

सामान्य वृद्धि और विकास तभी देखा जाता है जब उचित पोषण हो, संक्रमण के किसी भी आवर्तक एपिसोड के बिना और प्रतिकूल और पर्यावरणीय प्रभावों से मुक्ति हो।

वृद्धि और विकास के निर्धारक
आनुवंशिक वंशानुक्रम – विशेष रूप से ऊंचाई, वजन, मानसिक, सामाजिक विकास और व्यक्तित्व।
जन्म से पहले और बाद में पोषण – एक शिशु में मंदता कुपोषण का संकेत देती है।
आयु – भ्रूण के जीवन के दौरान, जीवन के पहले दो वर्षों और यौवन के दौरान विकास दर अधिकतम होती है।
लिंग – पुरुष आमतौर पर महिलाओं की तुलना में आकार में बड़े होते हैं। यौवन के दौरान लड़कियां लड़कों की तुलना में तेजी से और जल्दी बढ़ती हैं, लेकिन लड़के अधिक बढ़ते हैं।
संक्रमण और संक्रमण – अंतर्गर्भाशयी जीवन के दौरान टॉर्च के साथ संक्रमण भ्रूण के विकास को रोकता है। विशेष रूप से कुपोषित बच्चे में दस्त और खसरा जैसे बार-बार होने वाले संक्रमण विकास पर प्रतिकूल प्रभाव डालेंगे।
भौतिक परिवेश – सूर्य की चमक, अच्छा आवास, प्रकाश वेंटिलेशन का विकास और विकास पर प्रभाव पड़ता है।
मनोवैज्ञानिक कारक – प्यार, कोमल देखभाल और उचित बच्चे के माता-पिता के संबंध सभी एक बच्चे में विकास को प्रभावित करने के लिए पाए जाते हैं।
आर्थिक कारक – परिवार की आय जितनी अधिक होगी, शिशु की पोषण स्थिति उतनी ही बेहतर होगी।
अन्य कारक – जन्म क्रम, जन्म अंतर, माता-पिता की शिक्षा (उच्च शिक्षा स्तर बेहतर विकास)।

(डी) एनिमिज्म

यह विश्वास है कि निर्जीव वस्तुओं (जैसे खिलौने और टेडी बियर) में मानवीय भावनाएँ और इरादे होते हैं। जीववाद से पियाजे (1929) का अर्थ है कि पूर्व-संचालन बच्चे के लिए प्रकृति की दुनिया जीवित है, सचेत है और इसका एक उद्देश्य है।

पियाजे ने जीववाद के चार चरणों की पहचान की है:

  • 4 या 5 साल की उम्र तक, बच्चा मानता है कि लगभग सब कुछ जीवित है और उसका एक उद्देश्य है।
  • दूसरे चरण (5-7 वर्ष) के दौरान केवल चलने वाली वस्तुओं का एक उद्देश्य होता है।
    अगले चरण (7-9 वर्ष) में, केवल उन वस्तुओं को जीवित माना जाता है जो अनायास चलती हैं।
  • अंतिम चरण (9-12 वर्ष) में, बच्चा समझता है कि केवल पौधे और जानवर ही जीवित हैं।

(ई) ताल, संगीत और आंदोलन का महत्व

नवजात और छोटे बच्चों के विकास में लय, संगीत और हलचल महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। नवजात शिशु को आराम मिलता है जब काजोल मधुर स्वरों और लोरी के माध्यम से मधुर स्वरों में बजती है। रोते हुए शिशु को आराम देने के लिए, हम आमतौर पर उसे हिलाते हैं, ताली बजाते हैं, अपनी उंगली पर क्लिक करते हैं या ”काका काका” जैसी दोहराई जाने वाली आवाज करते हैं।

उदाहरण ; एक तनावग्रस्त युवा बच्चा, एक कमरे में अकेला, अपनी माँ के कदमों की परिचित आवाज़ सुनकर तुरंत सुरक्षित महसूस करता है

संगीत और आंदोलन आत्म अभिव्यक्ति और आत्म खोज के लिए प्रदान करते हैं। बच्चों को संगीत की अपने तरीके से व्याख्या करने के लिए और नए शब्द, नई धुन और नई चाल बनाने के लिए संगीत का जवाब देने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। संगीत और नृत्य भावनाओं और मनोदशाओं की अभिव्यक्ति को सक्षम बनाता है। वे बच्चे को सामाजिक रूप से स्वीकृत तरीके से अपनी दबी हुई भावनाओं और भावनाओं को बाहर निकालने की अनुमति देते हैं।

उदाहरण  ढोल बजाना, हाथ उड़ना या अन्य नृत्य गति बच्चे को अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में मदद कर सकते हैं।

आंदोलन की भावना, छोटे बच्चों को पर्यावरण पर कार्य करने की उनकी क्षमता से परिचित कराती है। आंदोलन के माध्यम से बच्चा अंतरिक्ष की विशालता का अनुभव करता है और समझता है कि वह अपने शरीर का उपयोग अपने परिवेश का पता लगाने के लिए कर सकता है। इसलिए लयबद्ध गति बच्चे को पर्यावरण के बारे में जानने का अवसर प्रदान करती है।

क्यू. 2  आप एक ग्रीष्मकालीन शिविर चला रहे हैं और आपके पास दस प्रीस्कूलर का समूह है जिनकी आयु 4 से 4.5 वर्ष के बीच है। प्रत्येक एक गतिविधि का वर्णन करें जिसे आप सुगम बनाने की योजना बना रहे हैं।

  • संज्ञानात्मक विकास
  • शारीरिक मोटर विकास
  • सामाजिक-भावनात्मक विकास
  • भाषा के विकास को सुगम बनाना

प्रत्येक गतिविधि के लिए, यदि आवश्यक हो तो सामग्री का उल्लेख करें और प्रत्येक विकास डोमेन के लिए गतिविधि को अंजाम देने की प्रक्रिया उस डोमेन के विशिष्ट पहलू को बताएं जिसे गतिविधि के माध्यम से पोस्ट किया जाएगा।

(क) सकारात्मक विकास

सकारात्मक विकास का अर्थ है कि बच्चे कैसे सोचते हैं, खोजते हैं और चीजों को समझते हैं। यह ज्ञान, कौशल, समस्या समाधान का विकास है जो बच्चों को उनके आसपास की दुनिया के बारे में सोचने और समझने में मदद करता है।

गतिविधि का नाम : टोकरी में डालें
गतिविधि का लक्ष्य :  4 से 4.5 वर्ष की आयु के बच्चों के संज्ञानात्मक विकास को बढ़ावा देना
गतिविधि की सामग्री: इस गतिविधि के लिए मैं एक टोकरी में चार अलग-अलग रंगों की गेंद (लाल पीला नीला हरा) रखूंगा।

मैं बड़ी टोकरी के साथ खाली टोकरी रखूँगा। बच्चों को प्रत्येक टोकरी में एक ही रंग की गेंद डालनी होती है, जिसका अर्थ है कि एक टोकरी में नीली गेंद होगी और दूसरी टोकरी में लाल गेंदें आदि होंगी।

सबसे पहले मैं उन्हें दिखाऊंगा कि उन्हें यह गतिविधि कैसे करनी है और फिर मैं खुद को एक-एक करके ऐसा करने दूंगा। मैं उनका आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए उन्हें प्रेरित करता रहूंगा।

आवश्यक सामग्री: एक बड़ी टोकरी, 4 छोटी टोकरी, रंगीन गेंदें

पुट इन बास्केट गतिविधि करके वर्गीकरण कौशल विकसित किया जाएगा

संज्ञानात्मक विकास में वर्गीकरण कौशल निम्नलिखित तरीके से विकसित होगा:

  • बच्चे समझेंगे कि लाल नीला हरा पीला अलग-अलग रंग हैं।
  • बच्चे एक टोकरी में एक गेंद डालेंगे क्या वे रंग के आधार पर वर्गीकृत गेंदें करेंगे
  • यह गतिविधि रंग की अवधारणा को समझकर उनके संज्ञानात्मक विकास को बढ़ावा देगी और अब वे रंग के आधार पर बॉल, पेन, बॉक्स और किसी भी वस्तु को वर्गीकृत करेंगे।

ख . शारीरिक मोटर विकास:

मोटर विकास का अर्थ है शारीरिक विकास और बच्चे की हड्डी की मांसपेशियों का खड़ा होना या अपने घोड़े को चारों ओर से हिलाने और छूने की क्षमता।

गतिविधि का नाम: गेंद को लात मारो

गतिविधि का लक्ष्य- 4 से 4.5 वर्ष की आयु के बच्चों के तेजी से शारीरिक मोटर विकास के लिए।

गतिविधि की सामग्री- इस गतिविधि के लिए मैं एक बड़े आकार की गेंद लूंगा और इसलिए बच्चे गेंद को पूरी ताकत से किक कैसे करें, पहले मैं उन्हें दिखाऊंगा और फिर मैं उन्हें गेंद को किक करके उनकी इच्छा के अनुसार गेंद से खेलने के लिए कहूंगा। किसी भी दिशा में। एक-एक करके सभी बच्चे गेंद को अपने पास रखेंगे। कुछ देर बाद मैं बच्चों को अलग-अलग कोने में खड़ा कर दूँगा और वे उन्हें एक-दूसरे को गेंद पास करके किक मारने के लिए कहेंगे। इस तरह वे गेंद से खेल सकते हैं।

आवश्यक सामग्री : बड़े आकार की गेंद
किक द बॉल गतिविधि करके सकल मोटर कौशल विकसित किया जाएगा:

>> भौतिक मोटर विकास में सकल मोटर पैमाना निम्नलिखित तरीकों से विकसित होगा:

>>बच्चे गेंद को लात मारेंगे जिसमें उनके पैर की मांसपेशियां और ऊपरी शरीर का समन्वय शामिल होगा

>>बच्चे अपने शरीर को संतुलित करेंगे और गेंद को किक करने के लिए पैरों पर ताकत रखेंगे>>गेंद को लात मारकर इधर-उधर घूमते हुए गेंद के पीछे दौड़ते हुए उनकी बड़ी मांसपेशियों का विकास होगा और उनकी ताकत में सुधार होगा। इस प्रकार सकल मोटर कौशल तेज हो जाएगा

ग . सामाजिक भावनात्मक विकास

सामाजिक भावनात्मक विकास एक क्रमिक एकीकृत प्रक्रिया है जिसके माध्यम से बच्चे अनुभव को समझने और भावनाओं को प्रबंधित करने की क्षमता प्राप्त करते हैं और दूसरों के साथ सार्थक संबंध विकसित करते हैं।

गतिविधि का नाम : कठपुतलियों से बात करें
गतिविधि का लक्ष्य: 4 से 4.5 वर्ष की आयु के बच्चों के भावनात्मक विकास में तेजी लाने के लिए
गतिविधि की सामग्री: इस गतिविधि के लिए मैं दो पॉपपेट (खुश और उदास) बनाऊंगा

और बच्चों को उन कठपुतलियों से भी बात करने के लिए कहें, मैं उनसे पूछूंगा कि आपको क्या खुशी मिलती है आपको क्या दुखी करता है जब आप खुश होते हैं तो क्या करना है जब आप दुखी होते हैं तो आप क्या करते हैं? उनकी भावनाओं के बारे में जागरूक करने के लिए। मैं उन्हें हमेशा खुश रहना सिखाऊंगा और उनसे कहूंगा कि जब वे दुखी हों तो दूसरों से बात करें। इस तरह हम उनके सामाजिक भावनात्मक विकास को बढ़ा सकते हैं

सी। भाषा के विकास को सुगम बनाना

भाषा का विकास ध्वनि और हावभाव से शुरू होता है फिर शब्द और वाक्य से। भाषा विकास वह प्रक्रिया है जिसके माध्यम से हम अपने विचारों को संप्रेषित करते हैं और दूसरों के विचारों और विचारों को समझते हैं।

मेरे बगीचे में गतिविधि का नाम-कविता पाठ
गतिविधि का लक्ष्य- 4 से 4.5 वर्ष की आयु के बच्चों के भाषा विकास को सुविधाजनक बनाना

गतिविधि की सामग्री। इस गतिविधि के लिए मैं चित्र और कविता के साथ एक सुंदर चार्ट तैयार करूंगा, मैं माई गार्डन पर सभी इशारों की अभिव्यक्ति के साथ और अधिकतम और बच्चों के ध्यान के एक चौथाई के भीतर कविता का पाठ करूंगा। उसके बाद मैं बाद में कहूँगा कि मेरे बाद दोहराना। इसके अलावा मैं फ्लैशकार्ड विकल्प का उपयोग उनके नाम से अवगत कराने और अपने दैनिक जीवन में इसका उपयोग करने के लिए पौधे के बीज का उपयोग करूंगा मैं बच्चों के साथ कई बार कविता तय करूंगा ताकि बच्चे आनंद ले सकें और शब्दों के अर्थ को समझ सकें।

आवश्यक सामग्री: कविता पर चार्ट माई गार्डन फ्लैशकार्ड

यह मेरा बगीचा है

मैं इसे यहां देखभाल के साथ लगाऊंगा

बीज हैं

मैं इनमें पौधे लगाऊंगा

सूरज साइन करेगा बारिश गिर जाएगी

बीज अंकुरित होंगे और लम्बे होंगे

कविता पाठ गतिविधि से शब्दावली और संचार कौशल का विकास होगा
>> बच्चे सीख सकेंगे नए शब्द
>>बच्चे वाक्य बोल सकेंगे
>> बच्चों को कविता के साथ मज़ा आएगा
>> बच्चे इस शब्द का प्रयोग अपने दैनिक जीवन में कर सकते हैं
इस प्रकार माई गार्डन पर कविता पाठ भाषा के विकास को सुगम बनाने में मदद करेगा

DECE2 SOLVED ASSIGNMENT ENGLISH

DECE2 SOLVED ASSIGNMENT HINDI

DECE3 SOLVED ASSIGNMENT ENGLISH

DECE3 SOLVED ASSIGNMENT HINDI

CHECK OTHER PREVIOUS YEAR QUESTION

Related posts

Leave a Comment